Phone : +91 5412 246 707

जियरा जुड़इहैं रे सजनी (एक प्रिय-विमुक्ता का उच्छ्वास)

Photo source : Google
पीसत जतवा जिनिगिया सिरइलीं
दियवा कै दीयै भर रहलैं रे सजनी।
मिरिगा जतन बिन बगिया उजरलैं
कागा बसमती ले परइलैं रे सजनी॥

सेमर चुँगनवाँ सुगन अझुरइलैं
रुइया अकासे उधिरइलीं रे सजनी।
साजत सेजियै भइल भिनुसहरा
निनियाँ सपन होइ गइलीं रे सजनी॥

अँगना-ओसरिया में डुहुरैं दुलुरुवा
अन बिन मुँह कुम्हिलइलैं रे सजनी।
सुधियो ना लिहलैं सजन निरमोहिया
अखियौ कै लोरवा सुखइलैं रे सजनी॥

बिरथा तूँ बिलखैलू  धनि बउरहिया 
पिया अँखपुतरी बनइहैं रे सजनी।
उनहीं की सुधिया में रहु धिया लटपट 
पंकिल जियरा जुड़इहैं रे सजनी॥ 
Share it on

1 comment:

  1. नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

    ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां मेरा मार्गदर्शन व उत्साहवर्द्धन करेंगी. सजग टिप्पणियां सजग रचनाधर्मिता के लिये आवश्यक होती हैं.कृपया स्नेह बनाये रखें .

Amazed And Thinking! Have some questions?

Contact Form

Name

Email *

Message *