Phone : +91 5412 246 707

माझी रे!

O Majhi Re
O Majhi Re: Dipankar Das      
Source: Flickr
माझी रे! कौने जतन जैहौं पार।
जीरन नइया अबुध खेवइया
टूट गए पतवार-
माझी रे! कौने जतन जैहौं पार।

माझी रे! ढार न अँसुवन धार।
दरियादिल है ऊपर वाला
साहेब खेवनहार! माझी रे!
रामजी करीहैं बेड़ापार।
माझी रे! कौने जतन जैहौं पार।


बीच भँवर खाती हिंचकोले
झाँझरी नइया डगमग डोले
उलटी बहत बयार, माझी रे!
नइया फँसी मझधार।
माझी रे! कौने जतन जैहौं पार।

बन जा उसके पथ का राही
उहवाँ नाहीं, नाहीं नाहीं
जिसने अजामिल ऋषितिय तारी
तोहरो सुनिहैं पुकार, माझी रे!
पंकिल ना डुबिहैं बीचे धार।
माझी रे! कौने जतन जैहौं पार।
Share it on

3 comments:

  1. http://surabhiisaxena77.blogspot.in/2015/01/blog-post_15.html

    ReplyDelete
  2. http://surabhiisaxena77.blogspot.in/2015/01/blog-post_15.html

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां मेरा मार्गदर्शन व उत्साहवर्द्धन करेंगी. सजग टिप्पणियां सजग रचनाधर्मिता के लिये आवश्यक होती हैं.कृपया स्नेह बनाये रखें .

Amazed And Thinking! Have some questions?

Contact Form

Name

Email *

Message *