12 November 2009

मुरली तेरा मुरलीधर 30

ज्यों तारक जल जल करते हैं धरती को शीतल मधुकर
नीर स्वयं जल जल रखता है यथा सुरक्षित पय निर्झर
वैसे ही मिट मिट प्रियतम को सत्व समर्पण कर पंकिल
टेर रहा है सत्वसंधिनी मुरली   तेरा    मुरलीधर।।161।।

प्राणों की मादक प्याली में प्रेम सुधा भर भर मधुकर
घूँघट उठा निहार मुदित मुख तुम्हें पिलाता रस निर्झर
मोहित मन की टिमटिम करती स्नेहिल बाती उकसाकर
टेर रहा है प्रीतिपिंजरा  मुरली   तेरा    मुरलीधर।।162।।

उसकी स्मृति में रोती रजनी गीला पवनांचल मधुकर
उसकी स्मृति की गहन बदलियों से बोझिल अम्बर निर्झर
प्रेमासव की एक छलकती कणिका के हित लालायित
टेर रहा है प्रीतिकोकिला मुरली   तेरा    मुरलीधर।।163।।

बड़ी निराली गुणशाली सच्चे की मधुशाला मधुकर
जिसे पकड़ती उसको ही कर देती मतवाला निर्झर
निजानन्द का स्वाद चखाती उमग उमग आनन्दमयी
टेर रहा है प्रेमतरंगा  मुरली   तेरा    मुरलीधर।।164।।

मरना सच्चा रस तो तू सोल्लास वहीं मर जा मधुकर
यदि वह निद्रा है तो उसमें ही सहर्ष सो जा निर्झर
उसका स्नेहिल उर स्पर्शित कर बहने दे पंकिल श्वांसें
टेर रहा है स्नेहाकुंरिता मुरली   तेरा    मुरलीधर।।165।।

----------------------------------------------------------------
 अन्य चिट्ठों की प्रविष्टियाँ -
# मैं तो निकल पड़ा हूँ ...(सच्चा शरणम )

----------------------------------------------------------------
आपकी टिप्पणी से प्रमुदित रहूँगा । कृपया टिप्पणी करने के लिये प्रविष्टि के शीर्षक पर क्लिक करें । साभार ।