Phone : +91 5412 246 707

मुरली तेरा मुरलीधर 19

अहं रहित मह मह महकेंगे तेरे प्राण सुमन मधुकर
स्निग्ध चाँदनी नहला देगी चूमेगा मारुत निर्झर
तुम्हें अंक में ले हृदयेश्वर हलरायेगा मधुर मधुर
टेर रहा है मूलाधारा  मुरली   तेरा    मुरलीधर।।106।।

उर वल्लभ के पद शतदल में मरना मिट जाना मधुकर
रस समाधि में  खो जाते ही होगा सब अशेष निर्झर
अनजाने अबाध उमड़ेगी भावों की उर्मिल सरिता
टेर रहा है भावमालिनी  मुरली  तेरा  मुरलीधर।।107।।

एक न एक दिवस जीवन में मरण सुनिश्चित है मधुकर
कभीं मृत्यु विस्मृत न रहे यह सुधि जागृत रखना निर्झर
सात दिनों में कोई दिन निश्चित आयेगा लिये मरण
टेर रहा है मृत्युविजयिनी मुरली तेरा मुरलीधर।।108।।

संसारी तू तन सम्हालता मन विचरता मुक्त मधुकर
तुम्हे न पता मृत्यु तन की मन साथ सदा रहता निर्झर
मन की ही सम्हाल करता चल सदा विवेकी धीर मना
टेर रहा चैतन्यरुपिणी  मुरली   तेरा    मुरलीधर।।109।।

तू न जगत का है अपने प्रभु का है यही सोच मधुकर
नहीं किसी प्रमदा का नर का केवल हरि का ही निर्झर
जीवन मरण बना ले दोनों सच्चा स्मृतिरसमय पंकिल
टेर रहा है मंगलसदनी मुरली   तेरा    मुरलीधर।।110।।

-----------------------------------------------

टिप्पणी करने के लिये प्रविष्टि के शीर्षक पर क्लिक करें …

-----------------------------------------------

अन्य चिट्ठों की प्रविष्टियाँ -

# जागो मेरे संकल्प मुझमें … (सच्चा शरणम )

Share it on

Amazed And Thinking! Have some questions?

Contact Form

Name

Email *

Message *