Phone : +91 5412 246 707

मुरली तेरा मुरलीधर 15

वह अनकहे स्नेह चितवन से उर में धँस जाता मधुकर
इस जीवन के महाकाव्य की सबसे सरस पंक्ति निर्झर
जन अंतर के रीते घट में भरता पल पल सुधा सलिल
टेर रहा है विभवभूषणा  मुरली   तेरा    मुरलीधर।।86।।
मरना उसके लिये उसी के हित ही हो जीना मधुकर
उसको ही ले तैर उसी को ले कर डूब यहाँ निर्झर
कंध देश पर रख तुमको परिरंभण में ले बचा बचा
टेर रहा सौभाग्यवर्धिनी  मुरली   तेरा    मुरलीधर।।87।।
अंगुलि से पोंछता कपोलों पर ढुलकते अश्रु मधुकर
निज अम्बर से ढंक देता सिहरता तुम्हारा तन निर्झर 
श्वांसों से भी अति समीप आ आलिंगन में बाँध तुम्हें
टेर रहा है भावविभोरा मुरली   तेरा    मुरलीधर।।88।।
किसे पता कब डूब जाय यह कागज की नौका मधुकर
पहले उससे मिल ले पीछे जो इच्छा हो कर निर्झर
प्राण विहंगम विषम पींजरे में छटपटा रहा कब से
टेर रहा मुक्तअम्बरा  मुरली   तेरा    मुरलीधर।।89।।
बॅंध जाना बाँधना भली विधि उसने सीखा है मधुकर
हिला मृदुल दूर्वा दल अंगुलि बुला रहा पल पल निर्झर
पर्वत पर्वत शिखर शिखर पर गुंजित कर सस्वर वंशी
टेर रहा है स्नेहिलरागा  मुरली   तेरा    मुरलीधर।।90।।


--------------------------------------------------------------
आपकी टिप्पणी से प्रमुदित रहूँगा । कृपया टिप्पणी करने के लिये प्रविष्टि के शीर्षक पर क्लिक करें । साभार ।
---------------------------------------------------------------------------
अन्य चिट्ठों की प्रविष्टियाँ -
# गुरु की पाती....... (सच्चा शरणम )
Share it on

Amazed And Thinking! Have some questions?

Contact Form

Name

Email *

Message *