Phone : +91 5412 246 707

बावरिया बरसाने वाली 18

कहते थे प्राण "अरी, तन्वी! मैं कृष कटि पर हो रही विकल ।
कह रही करधनी ठुनक-ठुनक रो रहे समर्थन में पायल ।
भय है उरोज-परिवहन पवन से हो न क्षीण त्रिबली-भंजन ।
रोमांच पुलक-वलयिता कल्प-विटपिनी लता काया कंचन ।
जब किया अलक्तक-रस रंजित हो गये चरण बोझिल-विह्वल् ।
कुन्तल-सुगन्ध-भाराभिभूत किसलयी सेज से गयी बिछल ।"
प्रिय! इस स्नेहामृत की तृषिता बावरिया बरसाने वाली -
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवनवन के वनमाली ॥38॥

था कहा सुमन-मेखला-वहन से बढ़ती श्वांस समीर प्रबल ।
प्रश्वांस-सुरभि-पंकिल सरोज-मुख आ घेरते भ्रमर चंचल ।
प्राणेश्वरि सम्बोधन से ही खिल जाते गाल गुलाबी हैं ।
हो जाते तेरे नील जलद से तरलित दृग मायावी हैं ।
मधुकर-पक्षापघात-मारुत कर जाता भृकुटि-अधर-स्पंदन।
यह कह-कह रस बरसाने वाले छोड़ गये क्यों मनमोहन ।
कब विधु-मुख देखेगी विकला बावरिया बरसाने वाली-
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवनवन के वनमाली ॥39॥

क्या कहूं आज ही विगत निशा के सपने में आये थे प्रिय !
तुम करते-करते सुरत प्रार्थना किंचित सकुचाये थे प्रिय !
मुझमें उड़ेल दी अपने चिर यौवन की अल्हड़ मादकता ।
दृग-तट पर दिया उतार हंस, थी पलकों पर गूंथी मुक्ता ।
अभिसार-सदन में दीपक की लौ उकसाया हौले-हौले ।
इतने भावाभिभूत थे प्रिय फ़िर अधर नहीं तेरे बोले ।
उस प्राणेश्वर को ढूंढ़ रही बावरिया बरसाने वाली -
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवनवन के वनमाली ॥40॥

निज इन्द्रनीलमणि-सा श्यामल कर में ले उत्तरीय-कोना ।
सहला मेरा शरदिन्दु भाल जाने क्या-क्या करते टोना ।
था गूंथ रहा नीलाम्बर में चन्द्रमा तारकों की माला ।
जाने क्या-क्या तुमने प्रियतम! मेरे कानों में कह डाला ।
आवरण-स्रस्त प्रज्ज्वलित अरुण किसलय समान कोमल काया।
मृदु पल्लव-दल-रमणीय-पाणि-तल से तुमने प्रिय! सहलाया।
जल-कढ़ी मीन-सी तड़प रही बावरिया बरसाने वाली -
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवनवन के वनमाली ॥41॥

अधरों पर चाहा हास किन्तु लोचन में उमड़ गया पानी ।
बहलाने लगी प्रेम की कह प्राचीन कहानी मृदुवाणी ।
इतने में ही वाटिका से कही प्रिय! विरही कोकिल कूका ।
मैं कह न सकूंगी क्यों निज आनन से मैनें दीपक फ़ूंका ।
लज्जित आनन पर अनायास ही श्यामकेशदल घिर आये।
तुम पीत पयोधर बीच विंहसते अपना आसन फ़ैलाये ।
प्रिय, अब भी वही तुम्हारी है , बावरिया बरसाने वाली -
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवनवन के वनमाली ॥42॥

सुधि करो प्राण! कहते गदगद "प्राणेश्वरि, तुम जीवनधन हो।
मुझ पंथ भ्रमित प्रणयी पंथी हित तुम चपला-भूषित घन हो।
तव अंचल की छाया में ही मेरी अभिलाषा सोती है ।
तव प्रणय-पयोधि-लहरियां ही मेरा मानस तट धोती हैं ।
तव मृदुल वक्ष पर ही मेरे लोचन का ढलता मोती है ।
तव कलित-कांति-कानन में ही मेरी चेतनता खोती है ।
अब सहा नहीं जाता विकला बावरिया बरसाने वाली -
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवनवन के वनमाली ॥43॥

सुधि करो प्राण! कहते "मृदुले! तारुण्य न फ़िर फ़िर आता है।
वह धन्य सदा जो झूम झूम कर गीत प्रीति के गाता है ।
देखो, वसत के उषा-काल ने दिया शिशिर-परिधान हटा ।
मुकुलित रसाल टहनियाँ झूमतीं पुलक अंग में अंग सटा ।
देखो प्रेयसि! नभ के नीचे मारुत मकरंद लुटाता है ।
उन्मत्त नृत्य करता निर्झर गिरि-शिखरों से कह जाता है ।
चिर-तरुण, दर्शनोत्सुका विकल बावरिया बरसाने वाली -
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवनवन के वनमाली ॥44॥

था कहा "प्रिये! लहरते सुमन ज्यों फ़ेनिल-सरिता बरसाती ।
आनन्द-गीत गा रहा भ्रमर कुहुँकती कोकिला मदमाती ।
मेरे जीवन की चिर-संगिनि परिणय-पयोधि उफ़नाता है ।
आकाश उढ़ौना सुमन बिछौना तृण-दल पद सहलाता है ।
आओ हम अपने प्राणों को खग के कलरव में लहरा दें ।
द्रुत पियें अमर आसव वासंती मार पताका फ़हरा दें ।
तारुण्य-तरल ! है परम विकल बावरिया बरसाने वाली-
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवनवन के वनमाली ॥45॥


था कहा विहँस "मृगनयनी! मेरा कर हथेलियों में ले लो ।
मृगमद से सुरभित करो पयोधर सरसिज कलिका से खेलो।
आओ रसाल-तरु के नीचे आदान-प्रदान करें चुम्बन ।
नीरव-निशीथ के परिरंभण में सुनें हृदय का मृदु-स्पंदन ।
गाओ गीतों के बिना निशा का स्वागत कब हो पाता है ।
आ लिपट जुड़ा लें तप्त प्राण यह वासर ढलता जाता है" ।
हो रसिक शिरोमणि! कहाँ विकल बावरिया बरसाने वाली-
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवनवन के वनमाली ॥46॥

सुधि करो प्राण! कहते थे तुम,"बस प्राणप्रिये! इतना करना।
तेरी स्मृति में विस्मृत जाये संसृति का जीना-मरना ।
तेरी पीताभ कुसुम-काया मेरे कर-बंधन में झूले ।
तव मलय-पवन-प्रेरित दुकूल लहरा मेरा आनन छू ले ।
गूँथना चिकुर में निशिगंधा की नित तटकी अधखिली कली।
तेरी पायल की छूम्-छननन् ध्वनि ढोती फ़िरे हवा पगली ।"
खोजती निवेदक को विकला बावरिया बरसाने वाली -
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवनवन के वनमाली ॥47॥
Share it on

4 comments:

  1. appki rachna par kuchh kahna mere liye suraj ko deepak dikhaane jaisa hai bahut bahut badhaai

    ReplyDelete
  2. भई वाह हिमांशु जी इस प्रस्तुति के विशेष आभार...

    ReplyDelete
  3. हिमांशु जी,बहुत ही सुंदर रचना लगी.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुंदर रचना लगी.
    धन्यवाद

    Himanshu ji

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां मेरा मार्गदर्शन व उत्साहवर्द्धन करेंगी. सजग टिप्पणियां सजग रचनाधर्मिता के लिये आवश्यक होती हैं.कृपया स्नेह बनाये रखें .

Amazed And Thinking! Have some questions?

Contact Form

Name

Email *

Message *