21 November 2008

बावरिया बरसाने वाली 13

परिमल-सम्पुट पिक-स्वर-गुंजित उन्मन मीठे तीसरे पहर ।
जाने किस अनुकम्पा में प्रिय ! झुक गए ललक मम चरणों पर ।
नटखटपन में जहर गयी प्राण!कुंतल में गूंथी सुमन-लड़ी ।
तेरी ग्रीवा पर रख दुकूल थी निकट सिमटती मौन खड़ी ।
चौमासे की उफनती सरित सी नील साटिका फहराती ।
झीनाम्बर से झलकती गुराई लोचन-भाषा सिखलाती ।
डूबी प्रिय लीला सिन्धु बीच बावरिया बरसाने वाली-
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवन वन के वनमाली॥ २८॥
------------------------------------------------------------
मम उरज प्रान्त पर शांत बाल सा रख कपोल थे किए शयन ।
सहलाती मसृण पाणि कुंतल अर्धोन्मीलित जलजाभ नयन ।
कहती थी "प्राण! काल कवलित हो जे न प्रणय मिलन घातें।
निस्पंद शून्य में खो न जाँय ये रस-रभस-कातर रातें ।
वर्जन की वे अंगुलियाँ आज भी मेरे अधर दबा जातीं ।
वह छवि न भूलती धरे चिबुक नभ-ध्रुव-अरुंधती दिखलाती।
लीला सहचर ! सुधि लो विकला बावरिया बरसाने वाली -
क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवन वन के वनमाली ॥२९॥

5 comments:

  1. अच्छा लिखा आपने .....

    ReplyDelete
  2. पिता के प्रति यह सम्मान देख मन द्रवित हो उठा. बधाई हो आपके इस कृत्य के लिए.

    ReplyDelete
  3. kya baat hai
    bhasha kathin hone ke baad bhi ras sa gholati hai...

    ReplyDelete
  4. bahot khub likha hai aapne... dhero badhai aapko sahab,.......

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां मेरा मार्गदर्शन व उत्साहवर्द्धन करेंगी. सजग टिप्पणियां सजग रचनाधर्मिता के लिये आवश्यक होती हैं.कृपया स्नेह बनाये रखें .