25 October 2008

बावरिया बरसाने वाली 7

सुधि करो प्राण पूछा तुमने "क्यों मौन खड़ी ब्रजबाला हो?

स्मित मधुर हास्य की मृदुल रश्मि से करती व्योम उजाला हो ।

तुम वारी-वीचि की सरसिज कलिका सी लेती अँगडाई हो ।

हो मरालिनी मानस सर की ऋतुराज सदृश गदराई हो।

क्यों मौन आँसुओं की भाषा सी दिए अधर पर ताला हो?

प्रिय मदिर नयन बंधूकअधर की ढरकाती मधुशाला हो।"

बस अपलक तुम्हें रही तकती बावरिया बरसाने वाली

क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवन वन के वनमाली ॥१२॥

कहते थे "मौन उषा गवाक्ष से प्राण! झांकता सविता हो।

परिरंभण-व्याकुल युगल बाहु की अथवा तन्मय कविता हो।

हो बिम्बाधर अरुणाभ पाणिपद नवल नीरधर अभिरामा ।

ओ नवल नील परिधान मंडिता सित दशना कुंतल श्यामा।

री नव अषाढ़ की सजल घटा सी श्यामल कुंतल बिखराये।

अति चपल करों से चंचल अंचल अम्बर उर पर सरकाए ।

अब पलक उठा पूछे किससे क्या बावरिया बरसाने वाली-

क्या प्राण निकलने पर आओगे जीवन वन के वनमाली ॥१३॥

1 comment:

  1. दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएं /दीवाली आपको मंगलमय हो /सुख समृद्धि की बृद्धि हो /आपके साहित्य सृजन को देश -विदेश के साहित्यकारों द्वारा सराहा जावे /आप साहित्य सृजन की तपश्चर्या कर सरस्वत्याराधन करते रहें /आपकी रचनाएं जन मानस के अन्तकरण को झंकृत करती रहे और उनके अंतर्मन में स्थान बनाती रहें /आपकी काव्य संरचना बहुजन हिताय ,बहुजन सुखाय हो ,लोक कल्याण व राष्ट्रहित में हो यही प्रार्थना में ईश्वर से करता हूँ

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियां मेरा मार्गदर्शन व उत्साहवर्द्धन करेंगी. सजग टिप्पणियां सजग रचनाधर्मिता के लिये आवश्यक होती हैं.कृपया स्नेह बनाये रखें .